सिटी न्यूज़

हस्तशिल्प उद्योगों के प्रचार-प्रसार हेतु तीन दिवसीय प्रदर्शनी का शुभारंभ, खानापूर्ति किए जाने पर व्यापारियों में रोष

हस्तशिल्प उद्योगों के प्रचार-प्रसार हेतु तीन दिवसीय प्रदर्शनी का शुभारंभ, खानापूर्ति किए जाने पर व्यापारियों में रोष
UP City News | Sep 23, 2022 09:39 PM IST

एटा/जलेसर. केंद्र व प्रदेश सरकार के द्वारा स्थानीय उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए ओडीओपी योजना के तहत तीन दिवसीय हस्तशिल्प एवं लघु उद्योग की तीन दिवसीय प्रदर्शनी का आयोजन प्रेम वाटिका तहसील रोड पर आयोजित किया जा रहा है. प्रदर्शनी का शुभारंभ मुख्य विकास अधिकारी एके बाजपेई ने फीता काटकर एवं दीप प्रज्वलित कर किया. लघु उद्योग प्रदर्शनी में वक्ताओं ने स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने, लघु उद्योगों को संचालित करने वाले मजदूर एवं कार्य करने वालों को सहयोग करने का आवाहन किया. ताकि, वह भारतीय उत्पादों को देश और विदेश में बिक्री कर सकें.

उत्तर प्रदेश सरकार ने एटा जनपद में एक जनपद एक उत्पाद योजना के अंतर्गत घुंगरू घटी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए स्वीकृति प्रदान की थी. जिसके तहत प्रत्येक वर्ष 200 से अधिक लाभार्थियों को प्रशिक्षण दिया जाता है. आज गत वर्ष के प्रशिक्षण प्राप्त करने बाल प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए. प्रदर्शनी के दौरान दो दर्जन उद्यमियों जिसमें अनिक दुग्ध डेयरी घुंगरू घंटी एवं हस्तशिल्प उत्पादों कि 2 दर्जन स्टॉल लगाई गईं. सहायक आयुक्त बांकेलाल ने ओडीओपी योजना के अंतर्गत होने वाले लाभ एवं केंद्र एवं प्रदेश सरकार के द्वारा इससे गरीब व कमजोर वर्ग को लाभ किए जाने के साथ-साथ भारतीय उत्पादन को बढ़ावा देने संबंधी विस्तृत जानकारी दी.

कार्यक्रम के दौरान सीडीओ ए के बाजपेई उप जिलाधिकारी राम नयन, भाजपा जिला महामंत्री सुशील गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष अशोक शर्मा,ं पम्मी ठाकुर, धर्मवीर प्रजापति, उपायुक्त उद्योग विभाग शरद टंडन, दिनेश चंद्र बंसल, वीरेंद्र प्रताप, संतोष, आदित्य मित्तल, राकेश कुमार वार्ष्णेय, कृष्ण गोपाल गुप्ता, मनोज बजरंगी, सत्येंद्र जादौन, नरेश ठाकुर, ओमपाल सिंह को उद्योग विभाग के द्वारा सम्मानित प्रतीक चिन्ह भेंट किए गए.

इस अवसर पर शेलेश गौतम, आफताब सिद्दीकी, अनिल शर्मा, प्रेम कांत, होली लाल राजपूत, वेद प्रकाश, जमील अख्तर, बृजेश यादव, टीटू बंसल, सुनील जैन, वीरेंद्र प्रताप, संतोष, नीरज कुमार, सेहा खान, अंजलि कुमारी, श्वेता सिंह, विधि वार्ष्णेय, बुलबुल कुमारी, नसरीन, बबीता सहित दर्जनों घुंगरू धटी के कारीगर एवं मां गायत्री कन्या महाविद्यालय की छात्राएं मौजूद रहीं.

प्रदेश सरकार के द्वारा कमजोर तबके के मजदूरों को बढ़ावा देने के लिए तैयार की गई. ओडीओपी योजना प्रारंभ तो की गई लेकिन योजना का लाभ प्रचार प्रसार ना होने के कारण पात्र लोगों को न मिल कर एक वर्ग विशेष के लोगों को ही मिल रहा है. वहीं प्रशासन द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी पंडाल मैं प्रचार-प्रसार की कोई व्यवस्था ना होकर केवल औपचारिकता ही पूरी की गईं. प्रदर्शनी पंडाल में घुंगरू बंटी उद्योग से जुड़े एक दो व्यापारी ही दिखाई दे रहे थे.