सिटी न्यूज़

मिरहची : खाद्य सुरक्षा विभाग की बडी कार्रवाई, डेयरी पर छापा मारकर सैकडो किलो नकली दूध बरामद

मिरहची : खाद्य सुरक्षा विभाग की बडी कार्रवाई, डेयरी पर छापा मारकर सैकडो किलो नकली दूध बरामद
UP City News | Sep 23, 2022 09:07 PM IST

एटा/मिरहची. थाना मिरहची क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर श्यामपुर में विश्वस्त सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के बाद खाद सुरक्षा विभाग द्वारा छापेमारी कार्रवाई की गई. कार्रवाई के दौरान मौके से नकली दूध व दूध में प्रयोग होने वाले रसायनों को बरामद किया. टीम ने बरामद सामान को एक कमरे में शील कर सैंपल लेकर जांच हेतु प्रयोगशाला भेज जाने की जानकारी दी है, साथ ही कहा है कि प्रयोगशाला से जांच रिपोर्ट आने के बाद ही विधिवत कार्रवाई की जाएगी. छापेमारी कार्रवाई के बाद एटा जिला मुख्यालय को वापस जा रही टीम ने कस्बा मिरहची में भी दो हथठेलों पर बेचने बाले पूउी कचौडी के भी सैंपल लिए हैं.

शुक्रवार की दोपहर खाद सुरक्षा विभाग ने जिला अभिहीत अधिकारी डॉ0 श्वेता सैनी के द्वारा मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी के0के0त्रिपाठी व खाद्य सुरक्षा अधिकारी गजेंद्र सिंह ने अभिसूचना आधारित कार्यवाही करते हुऐ थाना क्षेत्र के ग्राम श्यामपुर में उमाशंकर द्वारा दूध की डेयरी के माध्यम से किए जाने बाले दूध के कारोबार एवं मिलावटी दूध तैयार किए जाने की विश्वस्त सूत्रों द्वारा जानकारी दिए जाने के बाद अचानक ही दूध की डेयरी पर छापामार कार्रवाई की. जहां छापेमार कार्रवाई के दौरान दूध के निर्माण में प्रयुक्त होने वाले रसायनो के साथ पकड़ा, टीम द्वारा विक्रयार्थ रखे मिश्रित दूध के साथ-साथ बरामद रसायनों की जांच हेतु समस्त नमूने प्रयोगशाला प्रेषित किये गए हैं.

खाद्य टीम द्वारा रिफाइंड, अज्ञात रसायन, डिटरजेंट, सूखा ग्लूकोज पॉवडर, जिसकी अनुमानित कीमत लगभग रुपया 23750 बताई गई है, को मौके से बरामद किया. मिश्रित दूध व रसायन नमूना लेकर प्रयोगशाला जाँच के लिए भेजा गया. छापामार कार्रवाई करने बाले अधिकारियों ने बताया कि जाँच रिपोर्ट आने के बाद ही विधिबत कार्यवाही की जाएगी.

जिले में खाद्य विभाग के अधिकारियों की तैनाती के बाद भी कभी- कभी कार्रवाई होने और महीनों तक कार्रवाई नहीं होने से मिलावट खोरों की पौ-वारह है. यदि प्रतिदिन लक्ष्य बनाकर प्रत्येक कस्बा में छापामार कार्रवाई की जाए तो मिलावट खोरों द्वारा इस तरह का दुस्साहस कभी नहीं किया जाऐगा. नाम ना छापने की शर्त पर दुकानदारों ने बताया कि विभाग द्वारा सभी दुकानदारों को लक्ष्य ना बनाकर कुछ गरीब तबके के ही दुकानदारों को लक्ष्य बनाया जाता है ऐसा क्यों किया जाता हे यह एक ऐसा प्रश्न है कि इसका जबाब सभी जानते हैं.