सिटी न्यूज़

बेइज्जती का बदला लेने के लिए की हत्या और कर दिया फिरौती के लिए फोन, 12 दिन बाद मिली लाश

बेइज्जती का बदला लेने के लिए की हत्या और कर दिया फिरौती के लिए फोन, 12 दिन बाद मिली लाश
UP City News | Jul 29, 2021 01:42 PM IST

अलीगढ़. बन्नादेवी के गांव लच्छिमपुर से विगत 15 दिन से लापता युवक की लेनदेन के विवाद में हत्या कर दी गई. हत्या के बाद आरोपी ने शव को नाले में फेंक दिया और बुधवार को 10 लाख की फिरौती के लिए परिजनों को फोन कर दिया. फिरौती का फोन आने पर परिजनों ने थाना पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने मामने की जांच कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा कर दिया. आरोपियों की निशानदेही पर लापता युवक का शव नाले से बरामद कर लिया.

बन्नादेवी के गांव लच्छिमपुर निवासी रितिक (19) पुत्र किशन सिंह विगत 15 जुलाई को लापता हो गया. काफी ढूंढने के बाद भी युवक का कोई सुराग नहीं लग सका. बुधवार सुबह किशन सिंह के पास फोन आया और आरोपियों ने रितिक का अपहरण करने की बात कही. उन्होंने रितिक को छोड़ने के एवज में 10 लाख रुपये की फिरौती मांगी. इस पर किशन सिंह ने मामले की जानकारी थाना पुलिस को दी. पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर रितिक की तलाश शुरू कर दी.

पुलिस ने मोबाइल फोन को स​र्विलांस पर लगाया तो किशन सिंह के पास आए फोन की सिम आरव निवासी नगला मसानी देहली गेट की निकली. इस पर पुलिस ने आरव को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी. इस पर उसने बताया कि उसके साथ प्रदीप निवासी लक्ष्मीपुर बन्नादेवी काम करता है और उसने ही बुधवार को उसके फोन से बात की थी. इसके बाद पुलिस ने प्रदीप को हिरासत में लेकर पूछताछ की. पूछताछ में प्रदीप ने बताया कि योगेंद्र निवासी लक्ष्मीपुर उसका दोस्त है. योगेंद्र के परिवार का किशन से रुपयों का लेनदेन बाकी था। लेनदेन को लेकर किशन आए दिन योगेंद्र के परिजनों की बेइज्जती करता था. इस पर योगेंद्र ने उसके साथ मिलकर बदला लेने की साजिश रची.

उसने बताया कि 15 जुलाई को उन्होंने रितिक को कमरे में बुला लिया और उसकी हत्या कर शव बोरी में भरकर नादा पुल से आगे गंदे नाले में फेंक दिया. पकडे जाने के डर से गुमराह करने के लिए आरव के मोबाइल से बुधवार को रितिक के मोबाइल पर फोन कर फिरौती मांगी थी. पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर रितिक का शव बरामद कर लिया. पुलिस ने तीनों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया.