सिटी न्यूज़

आंगनबाड़ी केंद्रों पर होगी स्वस्थ बालक बालिका प्रतियोगिता, स्वस्थ-सुपोषित बच्चे होंगे पुरस्कृत

आंगनबाड़ी केंद्रों पर होगी स्वस्थ बालक बालिका प्रतियोगिता, स्वस्थ-सुपोषित बच्चे होंगे पुरस्कृत
UP City News | Sep 21, 2022 09:44 PM IST

एटा. राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत गुरुवार को समस्त आंगनवाड़ी केन्द्रों पर स्वस्थ बालक बालिका प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा. जिसका मुख्य उद्देश्य सुपोषित परियोजना की परिकल्पना को साकार करना है, इसकी सफलता में स्वास्थ्य विभाग, ग्राम प्रधान व पोषण पंचायत की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी. वहीं स्वस्थ बालक-बालिका प्रतियोगिता के पश्चात ग्राम पंचायत स्तर पर भी 02 अक्टूबर को पुरस्कार वितरण समारोह का भी आयोजन किया जाएगा.

जिला कार्यक्रम अधिकारी संजय कुमार सिंह ने बताया कि प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी माह सितंबर 2022 को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है. 22 सितम्बर को स्वस्थ बालक-बालिका प्रतियोगिता स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से समस्त बाल विकास परियोजना कार्यालय एवं समस्त आंगनवाड़ी केन्द्रों पर आयोजित की जाएगा. इस गतिविधि का मुख्य उद्देश्य 05 वर्ष तक के बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाना, पोषण की महत्ता पर जागरूकता बढ़ाना एवं एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का वातावरण बनाना है.

इस सम्बन्ध में आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों के सहयोग से बच्चों के अभिभावकों, पारिवारिक सदस्यों को जागरूक किया जाएगा. ग्राम प्रधान, पंचायत सदस्यों के माध्यम से बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण महत्त्व के सम्बन्ध में जागरूकता लाई जाएंगी. स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जाएगा. जनपद में कुल 1864 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर 187521 बच्चे पंजीकृत हैं. डीपीओ ने बताया कि सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर ग्रोथ मॉनिटरिंग डिवाइस, ग्रोथ चार्ट तथा, कम्युनिटी ग्रोथ चार्ट की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी साथ ही सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों का वजन देने के पश्चात लंबाई एवं ऊंचाई की फीडिंग पोषण ट्रैकर एप पर दर्ज की जाएगी.

इसके अलावा बच्चों के टीकाकरण व अनुपूरक पोषण प्राप्त करने संबंधित अभिलेख रक्षित किए जाएंगे. स्वास्थ बालक-बालिका स्पर्धा के आयोजन में स्थानीय संस्थाएं एवं स्वयं सहायता समूहों, शैक्षणिक संस्थाएं आशा, एएनम का सहयोग लिया जाएगा. इस स्पर्धा को एक त्योहार उत्सव के रूप में मनाया जाएगा एवं समुदाय में स्वास्थ्य एवं पोषण के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धात्मक जागरूकता लाई जाएगी और स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा के आयोजन में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सहभागिता भी प्राप्त की जाएगी.