सिटी न्यूज़

एटा: जब बैंक मैनेजर को नियम बताए तो बैंक कर्मियों ने धक्का देकर उपभोक्ता को निकलवा दिया बाहर, जानिए पूरी वजह

एटा: जब बैंक मैनेजर को नियम बताए तो बैंक कर्मियों ने धक्का देकर उपभोक्ता को निकलवा दिया बाहर, जानिए पूरी वजह
UP City News | Jun 23, 2022 09:15 AM IST

एटा/ मिरहची. उत्तर प्रदेश में एटा के कस्बा मिरहची की एसबीआई शाखा में अपने खाते में 30 हजार रुपए की रकम जमा करने गए एक व्यापारी को बैंक कर्मियों ने धक्का देकर शाखा से बाहर निकाल दिया. बैंक अधिकारियों के दुर्व्यवहार से आहत व पीड़ित उपभोक्ता ने बैंक प्रबंधक के विरुद्ध जांच कराकर कराते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उदय शंकर सिंह से कानूनी कार्रवाई की मांग की है. पीड़ित ने बैंक के उच्चाधिकारियों एवं प्रधान कार्यालय को भी शिकायत पंजीकृत डाक से भेज दी है. पीड़ित ने बताया कि पैसे जमा करते वक्त उसके तर्क बैंक कर्मचारियों को पसंद नहीं आए और गालीगलौज करते हुए बाहर निकाल दिया. इतना ही नहीं पुलिस कार्रवाई भी धमकी दी.

कस्बा में स्थित भारतीय स्टेट बैंक शाखा पर बुधवार की सुबह 11 बजे क्षेत्र के ग्राम जिन्हेंरा निवासी खाताधारक संतोष कुमार पुत्र टोड़ी सिंह आरटीआई कार्यकर्ता अपने बचत खाते में 30 (तीस हजार रुपए) जमा करने के लिए बैंक शाखा के कैश काउंटर पर गए. पीड़ित उपभोक्ता संतोष कुमार मौर्य ने बैंक मैनेजर पर आरोप लगाया है कि मैं अपने खाते में रुपए जमा करने गया जिसको कैश काउंटर पर बैठे कैसियर ने जमा करने से साफ इंकार कर दिया. कहा कि हमारी शाखा में किसी खाते में 40 हजार से कम रुपए जमा नहीं होते हैं. रोकड़ अधिकारी ने इस संबंध में बैंक मैनेजर से मिलने को कह दिया. जब उपभोक्ता बैंक मैनेजर के पास गया तो वह समस्या सुनकर आग बबूला हो गए और कहा कि बैंक में नेता नगरी करने आया है. शाखा में मौजूद कुछ लोगों को आवाज देकर बुलाया और उनसे मुझे धमकी देकर बाहर निकलवा दिया.

नियम: दस रुपये जमा तो 50 रुपये तक निकाल सकते हैं
आरटीआई कार्यकर्ता संतोष ने बताया कि मेरे द्वारा 24 मई 2020 को आरटीआई के तहत केंद्रीय जन सूचना अधिकारी एवं सहायक महाप्रबंधक अमित कुमार आगरा से मिली सूचना में स्पष्ट बताया गया है कि एसबीआई बैंक शाखा मैं उपभोक्ता को न्यूनतम 10 रुपया तक बचत खाते में जमा करने का अधिकार है तो वही कम से कम 50 रुपया तक अपने खाते से निकासी करना बैंक का नियम है.

नियम बताए तो भड़क गए बैंक अधिकारी
संतोष कुमार ने यह सभी साक्ष्य बैंक मैनेजर को दिखाए तो उन्होंने मुझे अपमानित करके बाहर निकाल दिया. इस संबंध में शाखा प्रबंधक कृष्ण कुमार ने बताया कि कंजूमर संतोष के द्वारा शाखा के अन्य कर्मियों से बदसलूकी की, जिस वजह से उन्हें बैंक से बाहर कर मामला शांत करा दिया गया था. मौके पर मौजूद अन्य उपभोक्ताओं ने बैंक प्रबंधक को उपभोक्ता के साथ अभद्रता करने का आरोप लगाया है. वहीं शाखा प्रबंधक के आरोपों को निराधार बताते हुए सीसीटीवी कैंमरों की फुटेज के साक्ष्य के साथ शाखा प्रबंधक के बिरूद्ध कार्रवाई की मांग की है.