सिटी न्यूज़

एटा: डायजापाम के तीन आरोपितों को 12 साल की सजा, एक लाख बीस हजार का जुर्माने

एटा: डायजापाम के तीन आरोपितों को 12 साल की सजा, एक लाख बीस हजार का जुर्माने
UP City News | May 13, 2022 11:26 PM IST

एटा. अपर सत्र न्यायाधीश एवं विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट रीमा मल्होत्रा की अदालत ने सात वर्ष पूर्व राजा का रामपुर में 1 किलो 800 ग्राम डायजापाम के साथ गिरफ्तार किए गए तीन आरोपितों को 12 साल के कठोर कारावास और एक लाख बीस हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है. जुर्माना अदा न करने पर दो वर्ष का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा.

राजा का रामपुर में 21 सितंबर 2015 को क्षेत्र के मढिया चौराहे से केंटर समेत जनपद बदायूं के बिल्सी थानान्तर्गत ग्राम जरसैनी निवासी अकबर पुत्र अली मोहम्मद, बिहार के पटना के थाना व कस्बा सुल्तानगंज के मोहल्ला खान मिर्जा निवासी सलाउददीन पुत्र महरूम रियाज और नूरमुहम्मद को पकड़ा था. केंटर से 19 पशु पकड़े और तीनों आरोपितों के कब्जे 600-600 ग्राम जायजापाम बरामद किया गया था. पूछताछ में आरोपितों ने बताया था कि नशीले पदार्थ को जहरखुरानी में प्रयोग करते थे. शुक्रवार को न्यायालय में हुई सुनवाई में आरोपितों पर एनडीपीएस एक्ट के तहत दोष साबित हुआ. शुक्रवार को न्यायालय में सजा को लेकर सुनवाई हुई. अभियोजन पक्ष की ओर से मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता व आरोपी पक्ष के एक दूसरे अधिवक्ता ने पैरवी की.

बचाव पक्ष के अधिवक्ता द्वारा न्यायालय के समक्ष यह कथन रखा गया कि तथाकथित प्रकरण में धारा-50 एनडीपीएस अधिनियम के प्रावधान का अनुपालन नहीं किया गया है. न्यायाधीश ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अभियुक्त अकबर, सलाउददीन और नूरमुहम्मद को एनडीपीएस अधिनियम में 12 साल की सजा और 1 लाख 20 हजार का अर्थदण्ड से दंडित किया गया है. अर्थदण्ड न देने पर 2 वर्ष का अतिरिक्त कारास की सजा सुनाई है.

वहीं दूसरी तरफ कोतवाली नगर के नगला बनवारी निवासी अशोक पुत्र गोवर्धन सिंह का कहना है कि शहर के ग्राहक सेवा केन्द्र अवागढ हाउस निवासी धीरज तिवारी समेत दो लोगों ने धोखाधड़ी कर फर्जी तरीका से 4 लाख रुपए की एफडी फर्जी हस्ताक्षर कर ले लिए, मांगने पर नहीं दिए. मामले की रिपोर्ट दो लोगों के खिलाफ दर्ज कराते हुए पीड़ित ने पुलिस से कार्रवाई की मांग की है.