सिटी न्यूज़

एटा: सरकारी आवासों पर कब्जा करने के बाद भी काम पर नहीं आते सफाईकर्मचारी, प्रधान खुद ही कर रहे सफाई!

एटा: सरकारी आवासों पर कब्जा करने के बाद भी काम पर नहीं आते सफाईकर्मचारी, प्रधान खुद ही कर रहे सफाई!
UP City News | Jun 22, 2022 09:33 AM IST

चौधरी एनपी सिंह
एटा. विकास खण्ड मारहरा में सफाई कर्मियों की मनमानी के चलते ग्रामीण क्षेत्रों की सफाई व्यवस्था चौपट हो चुकी है. काफी शिकायतों के बाद भी इन सफाई कर्मियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने से कर्मचारियों में गुस्सा बना हुआ है. लगातार की जा रही शिकायतों के बाद भी ग्राम प्रधान और न ही डीपीआरओ कार्यालय से कोई कार्रवाई की जा रही है. वहीं ये सफाई कर्मी बिना किसी आवंटन के ब्लॉक कैंपस में सरकारी आवासों में अपने परिवार सहित रह रहे हैं जबकि ब्लॉक कर्मचारी आवास के लिए भटक रहे हैं. वहीं सरकारी आवासों पर कब्जा करके रहने वरले सफाई कर्मचारी क्षेत्र में सफाई करने तक नहीं आते. ऐसे में विकास खण्ड की ग्राम पंचायत ख्वाजगीपुर के ग्राम प्रधान को खुद ही चौक नाली को साफ करना पड़ा.

विकास खण्ड मारहरा के ग्राम प्रधानों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि विकास खण्ड मारहरा में तैनात सफाई कर्मियों की मनमानी को दंश उनको झेलना पड़ता है क्योंकि ग्रामीणों द्वारा उन पर ही आरोप लगाए जा रहे हैं कि ग्राम प्रधानों की सांठ- गांठ से वेतन आहरित कराया जा रहा है. जबकि अधा दर्जन से अधिक ग्राम प्रधानों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि उनके द्वारा उनकी ग्राम पंचायत पर तैनात सफाई कर्मियों की पैरोल पर हस्ताक्षर नहीं किए जाने के बाद भी उनका वेतन आहरित हो रहा है. ग्राम प्रधानों ने डीपीआर कार्यालय के अधिकारी एवं कर्मचारियों की साठ-गांठ बताते हुए सफाई कर्मियों की मनमानी का आरोप लगाया है. ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने डीएम से ग्राम पंचायतों की चौक नालियों की सफाई बर्षात से पूर्व सफाई कर्मियों से कराए जाने की मांग की है. वहीं अनाधिकृत रूप् से ब्लॉक कैंपस में रह रहे सफाई कर्मियों को उनकी तैनाती ग्राम पंचायत पर ही निवास कराए जाने की मांग की है.

अनाधिकृत रूप से रह रहे सरकारी आवासों में रोजगार सेवक एवं सफाई कर्मी: स्थापना लिपिक
एक तरफ शासन और प्रशासन के स्पष्ट आदेश हैं कि ब्लॉक स्तर के अधिकारी ब्लॉक कैंपस एवं ग्राम पंचायत स्तर के कर्मचारी अपनी नियुक्ति क्षेत्र ग्राम पंचायतों पर ही निवास करेंगे. इस को लेकर जब ब्लॉक स्तर के स्थापना लिपिक से वार्ता की गई तो उन्होंने बताया कि ब्लॉक कैंपस पर स्थित आवासों में अनाधिकृत रूप से सफाई कर्मियों एवं रोजगार सेवकों ने कब्जा कर लिया है, जिससे ब्लॉक स्तर के कर्मचारी एवं अधिकारियों को उनके रहने के लिए आवास ही नहीं हैं.

ग्राम प्रधान स्वय ही कर रहे चौक नाली की सफाई
ग्राम पंचायत ख्वाजगीपुर के ग्राम प्रधान ने बताया कि उनकी ग्राम पंचायत की सफी नालियां चौक पडी हैं काफी शिकायतों के बाद भी सफाई कर्मी द्वारा चौक नाली को साफ नहीं कराया गया है. बारिश का समय नजदीक आ रहा है इसलिए स्वयं मुझे ही और अपने परिजनों को लगाकर नालियों की सफाई करनी पड रही है.

बिना आवंटन के कैसे रह रहे सरकारी आवासों में सफाई कर्मी और रोजगार सेवक
जब सफाई कर्मियों एवं रोजगार सेवकों को ब्लॉक कैंपस के आवासों में रहने का अधिकार ही नहीं है तो उनको सरकारी आवास कैसे आवंटित हो गए और उनके वेतन से बिना किसी कटौती के इन आवासों में वह कैसे निवास कर रहे हैं यह एक जांच का विषय है.

आवास के आदेश के बाद भी नहीं मिला क्षेत्रीय युवा कल्याण अधिकारी को आवास
युवा कल्याण विभाग के क्षेत्रीय युवा कल्याण अधिकारी अपनी तैनाती स्थल विकास खण्ड मारहरा के सरकारी आवास में निवास तो करना चाहते हैं, लेकिन अधिकारी के आदेश किए जाने के बाद भी उनको सरकारी आवस नहीं मिल पा रहा है इसका कारण है कि इन सरकारी आवासों में रोजगार सेवकों एवं सफाई कर्मियों ने कब्जा कर रखा है.