सिटी न्यूज़

​बेटी पैदा ही नहीं हुई और ले लिया शादी का अनुदान, कई मामलों का खुलासा, 10 पर FIR

​बेटी पैदा ही नहीं हुई और ले लिया शादी का अनुदान, कई मामलों का खुलासा, 10 पर FIR
UP City News | May 12, 2022 10:03 AM IST

मथुरा. सरकारी योजनाओं में कागजों के हेरफेर करके फर्जी तौर पर योजना का लाभ लेना कोई नई बात नहीं है. यूपी के मथुरा में श्रम विभाग से फर्जी ढंग से अनुदान लेने के बड़े खेल का खुलासा हुआ है. यहां बिना बेटी के तो कहीं दो—दो बार कागजों पर शादी करके अनुदान ले लिया गयात्र. वहीं एक मामले में दूसरे की बेटी को अपनी बेटी बताकर सरकारी शादी अनुदान को हासिल कर लिया. इस फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद दो श्रम प्रवर्तन अधिकारियों लिपिक सहित 10 लोगों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज हुई है. सरकारी धन की रिकवरी भी की जाएगी. श्रम मंत्री ने 4 मई को समीक्षा बैठक में भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के सचिव को जांच के आदेश दिए गए थे.

बता दें कि राज्य सरकार श्रमिकों की बेटियों की शादी के लिए अनुदान देती है. मगर मथुरा में ऐसा रैकेट सामने आया है जो फर्जी कागज तैयार करके सरकारी शादी अनुदान का पैसा हड़प रहा था. रैकेट में सहायक श्रम आयुक्त कार्यालय के अधिकारी व कर्मचारी कई दलाल और कुछ अन्य लोग शामिल हैं. विभाग को लगातार इस संबंध में शिकायतें मिल रही थीं. श्रम विभाग से मिलने वाली शादी अनुदान की राशि हड़पने बड़ा फ्रॉड चल रहा था. जिसे बेटी भी नहीं थी उसके नाम पर भी फर्जी कागज तैयार करके शादी में अनुदान लिया गया. बेटियों की दो—दो बार शादी कागजों पर दर्शा कर और दूसरे की बेटी को खुद की बेटी बता कर भी अनुदान लिया गया.

आईआईटी कानपुर बनी अनोखी बोतल, 2 मिनट बोतल हिलाने पर एक लीटर पानी हो जाएगा शुद्ध

मथुरा के मगोर्रा निवासी हरदम सिंह की बेटी है. जिसकी शादी वर्ष 2015 में हो चुकी है. मगर उसकी शादी का पैसा 2019 में भी लिया गया. इतना ही नहीं हरदम की दूसरी बेटी के नाम पर ही अनुदान का पैसा हड़प लिया गया. जो कि पैदा ही नहीं हुई. सुरेश चंद्र की दो बेटियों का विवाह 2015 में ही हो चुका है. मगर अनुदान हड़पने के लिए इनकी दोबारा शादी कागजों पर करा दी गई. विभागीय अधिकारियों की मानें तो 2019 में एक बार आवेदन सुरेश चंद्र के नाम से करके पैसा लिया गया. जबकि 2020 में सुरेश की पत्नी उर्मिला के नाम से आवेदन करके पैसा लिया गया.