सिटी न्यूज़

सरकारी कर्मचारियों ने यहां 18 साल युवतियों को कर दिया 3 साल का, फिर किया गोलमाल

सरकारी कर्मचारियों ने यहां 18 साल युवतियों को कर दिया 3 साल का, फिर किया गोलमाल
UP City News | Jul 22, 2021 07:51 AM IST

बरेली. उत्तर प्रदेश के बरेली में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में घोटाले के की बात सामने आई है. इसी योजना में आशा कार्यकर्ताओं को कमीशन की लालच देकर कई गांवों में 18 साल की युवतियों को कागज पर 3 साल का दिखा दिया गया है. युवतियों को बच्ची दिखाने के बाद सरकारी योजना में घपला किया गया है. पात्रों को लाभार्थी बताकर 1.20 करोड़ रुपए का सरकारी धन का बंदरबांट किया गया है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बरेली में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में एक के बाद एक बड़े घोटाले सामने आ रहे हैं. 2017 से 2020 के बीच कई सीएससी पर योजना से जुड़े लोगों ने गिरोह बनाकर सरकारी धन का गबन किया है. जांच पूरी होने के बाद मीरगंज में में घोटाले की बात सामने आई है. दावा किया जा रहा है कि मीरगंज की शिवपुरी गांव में 18 साल की युवती को 3 साल की बच्ची दिखाकर गबन किया गया. उसकी मां अफसाना पत्नी शाकिर को योजना के लाभार्थी बनाया गया. अफसाना के सात बच्चे हैं और वो योजना के लाभार्थी नहीं बन सकती थीं.

बताया गया कि इसी तरह से मोहल्ला सराय खास शमा परवीन को लाभार्थी बनाया गया. जबकि उसकी बड़ी बेटी की उम्र 18 साल से ज्यादा है. वहीं इस घोटाले में जांच पूरी हो गई है. डॉक्टर मयंक मिश्रा और डाटा एंट्री ऑपरेटर ओम को वित्तीय नीतियों का दोषी पाया गया है. उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की संस्तुति की गई है. प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में घोटालों का राज बैंक खातों की जांच से सामने आने की जांच में पता चलेगा कि अकाउंट में कब पैसा आया था. घोटाले की जांच में पता चला है कि कइयों के खातों में एक ही दिन हुए रुपये आए हैं. जांच में इसे भी संदिग्ध माना गया है. चर्चा यह भी है कि मामले को दबाने की कोशिश भी जारी है. वहीं जांच भी ठंडी पड़ गई है.