सिटी न्यूज़

UP Elections 2022 : भाजपा का बड़ा दांव, बसपा का ब्राह्मण चेहरा रामवीर उपाध्याय बने भाजपाई

UP Elections 2022 : भाजपा का बड़ा दांव, बसपा का ब्राह्मण चेहरा रामवीर उपाध्याय बने भाजपाई
UP City News | Jan 15, 2022 01:17 PM IST

आगरा. बसपा (BSP) सरकार में ऊर्जा मंत्री और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण नेता के रूप में पहचान रखने वाले रामवीर उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) कुछ ही देर में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर लेंगे. उनके आगरा के शास्त्रीपुरम स्थित आवास पर ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी उन्हें पार्टी की सदस्यता की शपथ दिलाएंगे. पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) को हाथरस की राजनीति का धुरी का माना जातस है. इसके साथ ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण समाज पर भी उनका अच्छा प्रभाव माना जाता है. ऐसे में कई विधायकों और मंत्रियों के पार्टी से जाने के बाद भाजपा ने भी बड़ा दांव खेला है.

हाथरस की सादाबाद (Sadabad) सीट से विधायक रामवीर ​उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) पिछली मायावती सरकारों में ऊर्जा, परिवहन और कई सारे विभागों के मंत्री रह चुके हैं. उनके विधानमंडल का सचेतक भी बनाया गया था. हालांकि बसपा सुप्रीमो ने उन्हें 2019 में अनुशासीनता के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया था. इसके बाद से ही वह राजनीति से दूर चल रहे थे. हालांकि पंचायत चुनाव के दौरान ही उनके भाजपा में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे थे लेकिन उस समय उन्होंने भाजपा की सदस्यता ग्रहण नहीं की. हालांकि वह कई बार भाजपा के प्रतिनिधियों के साथ मुलकात करते नजर आ जाते थे. अब गुरुवार को उन्होंने बसपा से इस्तीफा दे दिया.

ये भी पढ़ें: भाजपा ने जारी की पहले—दूसरे चरण के लिए प्रत्याशियों की लिस्‍ट, सीएम योगी गोरखपुर तो केशव यहां से लड़ेंगे चुनाव

बसपा से इस्तीफा दिए जाने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के संपर्क में हैं और जल्द ही सपा में शामिल हो सकते हैं. हालांकि उन्होंने कयासों को गलत साबित कर दिया और वह कुछ ही देर में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर लेंगे. बता दें कि सबसे पहले पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के छोटे भाई और पूर्व विधायक मुकुल उपाध्याय भाजपा में शामिल हुए थे. इसके बाद रामवीर उपाध्याय के बेटे चिरागवीर उपाध्याय ने भाजपा का दामन थामा और इसके बाद पत्‍नी सीमा उपाध्याय ने भी भाजपा ज्‍वाइन कर ली थी. उनका एक और भाई विनोद उपाध्याय पहले ही भाजपा में हैं.