सिटी न्यूज़

आगरा में बिना लाइसेंस के करोड़ों की दवाओं कारोबार करने वाले पर एसटीएफ ने मारा छापा, पकड़ा दवा माफिया

आगरा में बिना लाइसेंस के करोड़ों की दवाओं कारोबार करने वाले पर एसटीएफ ने मारा छापा, पकड़ा दवा माफिया
UP City News | May 13, 2022 02:11 PM IST

आगरा. आगरा में स्पेशल टास्क फोर्स और ड्रग विभाग की टीम ने गुरुवार को कार्रवाई की है. टीम ने थाना ताजगंज क्षेत्र से दवाओं का बड़ा जखीरा पकड़ा है. दवाइयां अवैध रूप से राज्य से बाहर बेची जा रही थीं. एसटीएफ ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है, जबकि दो लोग मौके से फरार हो गए. दवा माफिया कई वर्षों से कारोबार कर रहा था. पकड़ी गईं दवाएं एक करोड़ से अधिक कीमत की आंकी जा रही हैं.

ड्रग इंस्पेक्टर राजकुमार शर्मा ने बताया कि सभी दवाएं ब्रांडेड कंपनियों की हैं. जो कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है. इसके अलावा टीम ने एक और क्षेत्र में छापामार कार्रवाई की है. ड्रग इंस्पेक्टर राजकुमार शर्मा ने बताया कि ताजगंज क्षेत्र के बाग खिन्नी महल में वासुदेव कुशवाह के घर में सोनू अग्रवाल ने दो कमरों को किराए पर लिया था. इन कमरों में सोनू सैंपल की दवाओं का अवैध कारोबार कर रहा था.

गोपनीय सूचना के तहत एसटीएफ और ड्रग विभाग की टीम ने दोपहर को यहां छापा मारा. कमरों को खुलवाया तो यहां ब्रांडेड दवाओं का जखीरा मिला. ये दवाएं फिजीशियन को सैम्पल के लिए दी जाती हैं. इनमें टैबलेट, सीरप से लेकर इंजेक्शन और ब्रांडेड कंपनी की दवाएं मिली. उन्होंने बताया कि कार्टन के साथ ही बोरों में दवाएं भरी हुई थी. इसके साथ ही टीम ने शमसाबाद रोड स्थित राधे कृष्ण धाम कॉलोनी में छापा मारा. यहां भी कई कमरों में टीम को सैंपल की दवाएं मिली हैं. एक ही सॉल्ट की अलग-अलग कंपनी की सैंपल की दवाओं की बड़ी मात्रा मिली हैं.

ड्रग इंस्पेक्टर राजकुमार शर्मा ने बताया कि आरोपी सोनू अग्रवाल इन दवाओं को मुंबई से खरीदा था और राजस्थान बिहार पश्चिम बंगाल तमाम राज्यों में सप्लाई करता था. उन्होंने बताया कि सोनू अग्रवाल के पास दवाओं के कारोबार का कोई लाइसेंस नहीं था और वह यह कारोबार कई सालों से आगरा में कर रहा था. ड्रग इंस्पेक्टर राजकुमार शर्मा ने बताया कि एसटीएफ टीम ने गोदाम संचालक सोनू अग्रवाल को हिरासत में ले लिया है. उससे पूछताछ की जा रही है. दवाओं का जखीरे को जब्त किया जा रहा है. पूरे दवाइयों की गणना की जा रही है. प्रारंभिक जांच में पकड़ी गई दवाएं लगभग एक करोड़ से अधिक से अधिक कीमत की हो सकती हैं. एसटीएफ की टीम सोनू अग्रवाल से पूछताछ में जुटी है. अभी दो लोगों की तलाश की जा रही है. जो कि मौके से फरार हो गए हैं.