सिटी न्यूज़

मथुरा: राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गिरिराज जी के दर्शन कर की सप्तकोषीय परिक्रमा

मथुरा: राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गिरिराज जी के दर्शन कर की सप्तकोषीय परिक्रमा
UP City News | Feb 24, 2021 12:37 PM IST

मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा में यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल दो दिवसीय यात्रा पर मथुरा आई हैं. बुधवार को राज्यपाल धार्मिक यात्रा पर गोवर्धन पहुंची. आनंदीबेन पटेल ने गोवर्धन के विश्वप्रसिद्ध दानघाटी मन्दिर पहुंचकर गिरिराज जी के दर्शन किए. इसके बाद गिरिराज प्रभु का दूध—दही पंचामृत से महाभिषेक किया. मन्दिर सेवायत मथुरादास कौशिक ने राज्यपाल को विधि विधान मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्चना कराई. इसके बाद राज्यपाल यहां से गोल्फ कार में सवार होकर गिरिराज जी सप्तकोशिय परिक्रमा को निकल गईं.

बता दें कि उत्तर प्रदेश की राज्याल आनंदीबेन पटेल मंगलवार यानी 23 फरवरी को पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं गो अनुसंधान संस्थान के दसवें दीक्षांत समारोह में शामिल होने पहुंची. दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता करते हुए राज्यपाल एवं विश्वविद्यालय की कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान इस विश्वविद्यालय ने कोविड लैब की स्थापना की और यहां के वैज्ञानिकों ने कोरोना वॉरियर के रूप में करीब 60 हजार कोरोना सैंपल की जांच कर एक अनूठी मिसाल पेश की है.

दानघाटी मन्दिर पहुंचकर गिरिराज जी महाराज के दर्शन करने के लिए जाती हुईं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने महिलाओं में रक्त-अल्पतता (अनीमिया) की जांच कर उसके निवारण के लिए सुझाव विशेषज्ञों द्वारा प्रदान किए और क्षयरोग से ग्रसित बच्चों को गोद लेकर उनके स्वास्थ्य में सुधार हेतु सराहनीय प्रयास किए. उन्होंने कहा कि देश के विकास के लिए दुग्ध प्रसंस्करण क्षमता को 2025 तक दो गुना करने और पशुओं के रोग मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है. इसमें पशु विशेषज्ञ, किसान और पशुपालकों के बीच आपसी समन्वय स्थापित करके नई तकनीक का आदान-प्रदान कर दुग्ध व्यवसाय को एक उद्योग के रूप में विकसित करनने में भूमिका निभा रहे हैं.

छात्रावास का शुभारंभ करते हुए राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय एक महान चिंतक और समाजसेवी थे. मुझे पूरा विश्वास है कि आप भी उनके बताए रास्ते पर चलेंगे. इस मौके पर कृषि वैज्ञानिक चयन मंडल के अध्यक्ष प्रो. एके मिश्रा ने कहा किअपने दायित्वों का निर्वाहन करने के लिए जीवन के तीन सिद्धांतों यानी अनुशासन, समर्पण और भक्तिभाव को प्रगति का मूल आधार बताया. वहीं भारतीय कृषि अनुसंधान पशु विज्ञान के उपमहानिदेश डॉरु बीएन त्रिपाठी ने भी पशुओं के इलाज में नई तकनीकी के बारे में बताया. इस मौके पर वाइस चांसलर गिरिजेश कुमार सिंह ने धन्यवाद ज्ञापन किया.