सिटी न्यूज़

मैनपुरी: स्कूल में अनुसूचित बच्चों के बर्तन रखे जा रहे थे अलग, रसोइया बर्खास्त

मैनपुरी: स्कूल में अनुसूचित बच्चों के बर्तन रखे जा रहे थे अलग, रसोइया बर्खास्त
UP City News | Sep 25, 2021 10:22 AM IST

मैनपुरी. विकास खंड बेवर के प्राथमिक विद्यालय दौदापुर में छात्रों के साथ जातिगत भेदभाव किए जाने का मामला सामने आया है. यहां मिड—डे मील के लिए अनुसूचित बच्चों के बर्तन अलग रखे जा रहे थे. गांव की प्रधान के पति की शिकायत पर सीडीओ ने स्कूल पहुंचकर पूरे मामले की जानकारी ली और दोनों रसोइयों को बर्खास्त करते हुए प्रधानाध्यापिका को भी निलंबित कर दिया. शुक्रवार को पूरे मामले का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

 
परिषदीय विद्यालय दौदापुर में अनुसूचित जाति के बच्चों के लिए मिड—डे मील के बर्तन रसोइयों द्वारा उनकी कक्षाओं के पास रखे जा रहे थे. वहीं सामान्य जाति के बच्चों के बर्तन रसोई में रखे जा रहे थे. दो दिन पहले गांव की प्रधान मंजू देवी के पति साहब सिंह के साथ पहुंची तो यह नजारा देखकर चौंक गईं. उन्होंने प्रधानाध्यापिका से मामले की शिकायत की और रसोइयों को चेतावनी दी. इसके बावजूद रसोइयों ने अपनी कार्यप्रणाली नहीं बदली. इसके प्रधान ने मामले की शिकायत बीएसए से की. शुक्रवार को मामले का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

वीडियो वायरल होने के बाद जिला प्रशासन हरकत में आ गया. वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को सीडीओ विनोद कुमार, बीएसए कमल सिंह और परियोजना निदेशक केके सिंह प्राथमिक विद्यालय दौदापुर पहुंचे. जांच में शिकायत सही मिली. इस पर सीडीओ विनोद कुमार ने प्रधानाध्यापिका गरिमा सिंह राजपूत को लापरवाही पर निलंबित कर दिया और रसोइयों लक्ष्मीदेवी व सोनवती को बर्खास्त कर दिया.

हालांकि अधिकारियों द्वारा प्रधानाध्यापिका के निलंबन की कार्रवाई को गांव के लोगों ने गलत बताया. लोगों का कहना है कि प्रधानाध्यापिका गरिमा राजपूत प्रतिदिन विद्यालय पहुंचकर विधिवत शिक्षण कार्य कराती हैं. बर्तन अलग रखने के मामले में प्रधानाध्यापिका का दोष नहीं है. ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान मंजू देवी पर प्रधानाध्यापिका को बेवजह परेशान करने का आरोप लगाया.

वहीं सीडीओ विनोद कुमार ने प्रधान मंजू देवी को भी नोटिस जारी किया. यह नोटिस कायाकल्प योजना के तहत विद्यालय में काम नहीं कराए जाने के कारण जारी किया गया. जांच में सीडीओ ने पाया कि धनराशि होने क बावजूद प्रधान द्वारा काम नहीं कराया जा रहा है.