सिटी न्यूज़

दरबार ए मुर्शिद में मुहर्रम की सातवीं शरीफ के मौके पर रूबाई पाक, चादरपोशी, गुलपोशी, इत्र पाशी कर फातिहा व दुआ की गई

दरबार ए मुर्शिद में मुहर्रम की सातवीं शरीफ के मौके पर रूबाई पाक, चादरपोशी, गुलपोशी, इत्र पाशी कर फातिहा व दुआ की गई
UP City News | Aug 06, 2022 10:37 PM IST

आगरा. ईदगाह कटघर कब्रिस्तान स्थित दरगाह आले पंजतनी पीर दस्तगीर पीर अलहाज तसद्दुक हुसैन अलमारूफ रमज़ान अली शाह चिश्ती साबरी रहमतुल्लाह अलैह के दरबार ए मुकद्दस में हजरत ए अब्बास अलमबरदार रदीअल्लाहो अन्हो की सातवीं मुहर्रम शरीफ के मौके पर चादरपोशी, गुलपोशी, इत्र पाशी करके रूबाई पाक जो बुजुर्गों से सीना ब सीना अता हुई हैं, पेश करके फातिहा ख्वानी करके मुल्क के अमन चैन और मुरीदीन की फलाह और वेहबूदी की खास दुआ की गई. रूबाई पाक व दुआ के मौके पर दरबार के सज्जादानशीन पीरजादा विजय कुमार जैन ने कहा कि बुजुर्गों की बारगाह में रूबाई पाक पहले मुहर्रम से लेकर दसवें मुहर्रम तक पेश की जाती है.

Agra news, Darbar-e-Murshid, occasion, seventh Sharif of Muharram, Fatiha, Dua, Rubai Pak, Chadarposhi, Gulposhi, Perfumes, आगरा समाचार, दरबार-ए-मुर्शिद, अवसर, मुहर्रम की सातवीं शरीफ, फातिहा, दुआ, रुबाई पाक, चादरपोशी, गुलपोशी, इत्र,

शनिवार को हजरत सैय्यदना अब्बास अलमबरदार ने मैदान ए करबला में अपनी भतीजी से किए वायदे की वफ़ा करते हुए दुश्मनों के बीच बहुत बहादुरी से लड़ते हुए पानी लाने चल पड़े, अपने बाजू शहीद होने के बावजूद पानी के मसकीजे को दांतो में दबाकर चंद कतरे पानी के पहुंचाकर अपने वायदे को बखूबी निभाते हुए जाम ए शहादत पीकर इंसानियत का सबक दुनिया वालों को दिया. सातवी मुहर्रम के मौके पर हजरत अब्बास अलमबरदार की बारगाह में मशहूर शायरो जनाब सय्यद तनवीर निजामी अकबराबादी, सय्यद रिजवान कर्रार अकबराबादी, शाहिद नदीम अकबराबादी, दिलकश जालोनवी, हाजी गुलज़ार अकबराबादी, दाऊद इकबाल अकबराबादी, राहत कादरी अकबराबादी, डा0 जमील ने अपने सलाम पेश करके अपनी खिराजे अकीदत पेश की । सभी को लंगर पेश किया गया.

रूबाई पाक व दुआ के मौके पर सज्जादानशीन पीरजादा विजय कुमार जैन, सरकार सैय्यदना के सज्जादानशीन सय्यद मोहतशिम अबुलउलाई, सय्यद सलीम इरफानी, समी आगाई, अब्दुल सईद खान खलीफा रमज़ान खान साबरी, खलीफा जमील अहमद साबरी,राकेश चंदेल साबरी, उमेश चंदेल साबरी, पंडित जगदीश प्रसाद साबरी, पप्पू भाई, इरफान साबरी, अब्दुल जब्बार साबरी मुजफ्फरी, परवेज साबरी मुजफ्फरी, खलीफा कल्लू साबरी, खलीफा सईद साबरी, हाशिम साबरी, कासिम साबरी हाफिज इस्लाम कादरी, शरीफ अब्बास, नसीर भाई, सूफी हैदर अबुलउलाई, सय्यो भाई, गायत्री देवी साबरी, सरोज बाथम साबरी, राजकुमारी साबरी, शिवानी साबरी मौजूद रहे.