सिटी न्यूज़

कोरोना से महिला की मौत पर नहीं आ सके पति-बेटे तो पुलिस ने निभाया इंसानियत का फर्ज

कोरोना से महिला की मौत पर नहीं आ सके पति-बेटे तो पुलिस ने निभाया इंसानियत का फर्ज
UP City News | May 04, 2021 11:37 AM IST

आगरा. कोरोना की दूसरी लहर लोगों की जान ही नहीं ले बल्कि लोगों में दहशत भी पैदा कर रही है. हालात ये हो गए हैं कि लोग अपनों का अंतिम संस्कार भी नहीं कर पा रहे हैं. कोइ विदेश में तो कोई खुद ही बीमार और अपने मृत परिजन का अंतिम संस्कार करने में असमर्थ है. ऐसे में कुछ समाज सेवी संगठन तो कई जगहों पर पुलिस ऐसे असहाय लोगों की मददगार साबित हो रही है. आगरा में आगरा पुलिस ने अपनी वर्दी का पूरा फर्ज अदा करते हुए इंसानियत को ही नहीं बचाया बल्कि लोगों को ये संदेश भी दिया कि इस मुसीबत की घड़ी में एक दूसरे का साथ देना बेहद जरूरी है. आगरा में एक महिला की मौत होने पर उसके परिजन नहीं आ सके. संक्रमण के डर से पड़ोसियों ने भी दूरी बना ली तो पुलिस ने बेटों का फर्ज निभाया.

चौकी प्रभारी एकता थाना ताजगंज शैलेंद्र कुमार को सूचना मिली कि मकान नंबर 108 जयपुरिया सनराइज कालोनी निवासी शारदा देवी पत्नी महेश चार-पांच दिनों से बीमार थीं. उन्हें बुखार, जुकाम, खांसी आदि की शिकायत थी. सोमवार को उनकी मौत हो गई. शारदा देवी घर में अकेली ही रहती थीं. पति मुंबई में रहते हैं, जबकि दो बेटे विदेश में हैं. फ्लाइट बंद होने के कारण बेटे नहीं आ सके. लॉकडाउन के कारण पति महेश भी मुंबई से नहीं आ पाए थे. इस सूचना पर चौकी प्रभारी मौके पर पहुंचे और महिला के बारे में जानकारी की. देखा कि महिला का शव घर में है और कोई भी पड़ोसी घर में नहीं जा रहा. इस बारे में पड़ोसियों से बात की तो सभी ने इंकार कर दिया. इस बारे में आला अधिकारियों को मामले की जानकारी दी गई.

महिला के शव को ले जाते पुलिसकर्मी

परिजनों से फोन पर संपर्क किया. बेटों से बात हुई तो हवाई सेवा बंद होने के कारण आने में असमर्थता व्यक्त की. पति महेश से संपर्क किया तो उन्होंने ने भी कहा अचानक आना संभव नहीं हो पा रहा है. मंगलवार तक पहुंच पाएंगे.ऐसे में पुलिस के सामने सिर्फ अंतिम संस्कार ही एक विकल्प बचा. पुलिस ने अपने फर्ज के साथ इंसानियत को आगे रखते हुए पीपीई किट पहनकर महिला के शव को सम्मान से कफन पहनाया. आवश्यक पुलिस कार्रवाई करने के बाद शव को मोर्चरी में रखवा दिया. जानकारी पर बेटों और महिला के पति ने फोन से ही आगरा पुलिस खासकर एकता चौकी प्रभारी और उनकी टीम को धन्यवाद ज्ञापित किया. पुलिस ने कहा कि अगर मृतका का कोई परिजन नहीं पहुंचा तो पुलिस ही महिला का अंतिम संस्कार करेगी.