सिटी न्यूज़

आगरा: कुत्ते के 16 बच्चों के मारने के लिए बोरे में बंद कर फेंका तो अनाथ बच्चों को मिला मां का आंचल

आगरा: कुत्ते के 16 बच्चों के मारने के लिए बोरे में बंद कर फेंका तो अनाथ बच्चों को मिला मां का आंचल
UP City News | Nov 22, 2022 09:09 AM IST

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में पिछले दिनों कुत्तों के काटने के मामले बढ़ने के बाद लोग कुत्ता देखते ही दहशत में आ जाते हैं. मगर, कभी—कभी इस डर के बीच ऐसी तस्वीर सामने आ जाती है, जो दिल को सुकून देती है. ऐसा ही एक मामला आगरा में देखने को मिला, जब किसी ने कुत्ते के 16 नवजात बच्चों को बोरे में बंद कर सड़क किनारे फेंक दिया. बोरी में हलचल होती देख रास्ते से गुजर रहे भाई-बहन ने बोरी खोली तो उसमें छोटे-छोटे बच्चे थे. बच्चों को शेल्टर होम में भेजा गया. मगर, बच्चों को बचाने के लिए मां का दूध चाहिए था. ऐसे में एक ऐसी फीमेल डॉग मिली, जिसके बच्चे मर गए थे. उसने सभी 16 बच्चों को अपने आंचल में समेट लिया. बच्चे भी मां से चिपक गए और दूध पीने लगे. लोग इसे भगवान का चमत्कार और मां का प्यार बता रहे हैं. मां के प्यार की पूरी कहानी.

बोरे में बंद कर फेंक दिए थे बच्चे
न्यू आगरा में ओम सांई हॉस्पीटल के बाहर दो बोरे पडे़ थे. उन बोरों में कुछ हलचल हो रही थी. रात को वहां से दो बच्चे गुजर रहे थे. उनकी नजर बोरे पर पड़ी तो उन्होंने उसे खोलाकर देखा तो उसके अंदर कुत्ते के छोटे-छोटे बच्चे एक के ऊपर एक पड़े हैं. बच्चों को देखकर उन्हें दया आई. उन्होंने बोरे से निकालकर बच्चों को सड़क किनारे रख दिया. अब वो उन बच्चों को बचाना चाहते थे, लेकिन समझ नहीं आ रहा था क्या करें. किसी ने उन्हें डॉग शेल्टर होम चलानी वाली विनीता अरोरा का नंबर दिया. उन्होंने विनीता अरोरा को फोन किया. कैस्पर्स होम की टीम ने आकर बच्चों को रेस्कूय कर लिया.

Agra News, Agra Dog Shelter House, Agra Hindi News, Caspers Home Director Vinita Arora, New Agra News, Om Sai Hospital, Female Dog, UP City News, UP Hindi News, UP Latest News, UP Crime News, UP Dog House,
बच्चे को दूध पिलाते शेल्टर हाउस संचालक

अब शुरू होती है एक बेजुबान मां की कहानी
कैस्पर्स होम संचालिका विनीता अरोरा ने बताया कि बच्चे बहुत छोटे हैं। कुछ की तो आंखें भी नहीं खुली थी. किसी ने उन बच्चों को मारने के लिए ही बोरे में बंद कर फेंका होगा. उनकी टीम बच्चों को बचाने के लिए जुट गई. बच्चों को दूध की बोतल से पाउडर वाला दूध पिलाने की कोशिश की गई, लेकिन बच्चों ने दूध नहीं पीया. इसको लेकर वो बहुत परेशान थीं. तभी उन्हें किसी ने बताया कि उनके शेल्टर के पास एक स्ट्रीट फीमेल डॉग ने कुछ दिन पहले बच्चे दिए थे. उसके बच्चे मर गए हैं. तब से वो डॉग अपने बच्चे के लिए रो रही है. ऐसे में उन्होंने बच्चों को मां का दूध पिलाने के लिए उस फीमेल डॉग को शेल्टर लाने का फैसला लिया. उनकी टीम गई. उस फीमेल डॉग को लेकर आई. शेल्टर में दूसरे डॉग को देखकर फीमेल डॉग अग्रेसिव हो गई.

उमड़ने लगा मां का प्यार
फीमेल डॉग को शांत कराने के लिए वो अलग कमरे में ले गए. वहां पर सभी बच्चों को लेकर आया गया. जैसे ही फीमेल डॉग ने उन बच्चों को देखा तो वो जोर से रोने लगी. सभी बच्चों से लिपट गई. बच्चे भी उसे अपनी मां मानकर अठखेलियां करने लगे. इसके बाद फीमेल डॉग ने बच्चे के लिए अपना आंचल फैला दिया. बच्चे भी मां से लिपट कर दूध पीने लग गए. इस नजारे को देखकर वहां मौजूद सभी लोगों ने तालियां बजाईं. उनकी आंखों में आंसू आ गए. विनीता अरोरा ने बताया कि एक बेजुबान मां का प्यार देखकर अपने इमोशन पर काबू करना मुश्किल था. एक मां ने किस तरह स 15 बच्चों को अपनाया. ये भगवान का चमत्कार और एक मां का प्यार है. उन्हें खुशी है कि अब बच्चे के बचने की उम्मीद बढ़ गई है.

बच्ची ने लिया एक पप्पी गोद
विनीता अरोरा ने बताया कि जिस बच्ची नताली शर्मा ने उन्हें जानकारी दी थी, उसने 16 में से एक पप्पी को गोद ले लिया है. वो एक बच्चे को अपने साथ ले गई हैं. नताली का कहना था कि वो सभी बच्चों को अपने साथ नहीं रख सकती थीं, लेकिन एक पप्पी को अपने साथ ले आई हैं. जब उन बच्चों को देखा तो उन्हें बच्चों को बोरी में बंद करने वाले पर बहुत गुस्सा आया था. उन बच्चों ने किसी का क्या बिगाड़ा था.