सिटी न्यूज़

आगरा: सौ मरीज मिलते ही ताजनगरी में लग जाएगा नाइट कर्फ्यू, डीएम ने लोगों को चेताया

आगरा: सौ मरीज मिलते ही ताजनगरी में लग जाएगा नाइट कर्फ्यू, डीएम ने लोगों को चेताया
UP City News | Apr 08, 2021 09:57 AM IST

मुख्यमंत्री की कोविड समीक्षा के बाद जिलाधिकारी ने लोगों से कहा, संभल जाओ वरना लगाना पड़ेगा नाइट कर्फ्यू

आगरा. प्रदेश में कोरोना का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा हजारों कोरोना संक्रमित मिलने से सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 से अति प्रभावित 13 जनपदों की स्थिति का आंकलन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करते हुए जिलाधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए हैं. सीएम ने कहा कि जिन जिलों में प्रतिदिन 100 से अधिक केस मिल रहे हैं या जहां कुल एक्टिव केस की संख्या 500 से अधिक है. वहां माध्यमिक विद्यालयों में अवकाश के संबंध में जिलाधिकारी स्थानीय स्थिति के अनुरूप निर्णय लें.

इसे देखते हुए आगरा के जिलाधिकारी ने जनपद की जनता से अपील की है कि अगर संभले नहीं तो नाइट कर्फ्यू लगाना पड़ सकता है. उन्होंने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि जैसे ही जिले में सौ मरीज मिलना शुरू हो जाएंगे उसी दिन नाइट कर्फ्यू लगा दिया जाएगा. हालांकि सीएम का आदेश है कि किसी भी परिस्थिति में आवश्यक सामग्री जैसे दवा, खाद्यान्न आदि के आवागमन को बाधित न किया जाए.

ताजनगरी में रात दस बजे से सुबह 6 बजे तक ताजनगरी में नाइट कर्फ्यू लग सकता है. बुधवार रात मुख्यमंत्री ने आगरा समेत 13 जिलों की कोविड समीक्षा में जिला प्रशासन पर निर्णय छोड़ा है. जिस शहर में 500 सक्रिय मरीज हैं वहां नाइट कर्फ्यू लगाने के आदेश दिए हैं. मंडलायुक्त अमित गुप्ता व जिलाधिकारी समेत स्वास्थ विभाग के अधिकारी मुख्यमंत्री की रात 10 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग में शामिल हुए. जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने कहा, लोग अभी संभल नहीं रहे, वे अब भी संभल जाएं.

लापरवाही न करें. दो तीन दिन में जैसे ही प्रति दिन 100 नए मरीज मिले हमें नाइट कर्फ्यू लगाना पड़ेगा. आगरा में 456 सक्रिय मरीज हैं. नाइट कर्फ्यू में समान एवं आवश्यक वस्तुओं की परिवहन व्यवस्था प्रभावित नहीं होगी. ट्रांसपोर्ट कम्पनियां रात में काम कर सकेगी. सीएम ने डीएम को सभी आवश्यक सामान की तैयारियां करने के आदेश दिए हैं. नाइट कर्फ्यू में रात 9 बजे के बाद घर से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लग जाएगा. एक दो दिन में यह स्थिति बन सकती है.जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने बताया कि नए कोरोना मरीजों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और निगरानी समितियों को माइक्रो कंटेन्मेंट जोन में एक्टिव किया जाएगा.

दूसरे राज्यों से फिर हो सकता है श्रमिकों का पलायन
सीएम ने सभी डीएम से कहा, दूसरे राज्यों से फिर पिछले साल की तरह श्रमिकों का पलायन शुरू हो सकता है. ऐसे में विशेष सतर्कता बरती जाए. संक्रमण का प्रसार न हो इसके लिए स्वास्थ्य टीमों को सक्रिय करें. अस्पतालों में एल 2 व एल 3 श्रेणी के बिस्तरों का मरीजों के लिए इंतजाम रखें.