सिटी न्यूज़

आगराः संदिग्ध हालात में पति-पत्नि की मौत, खेत में एक ही चिता में जला दिए दोनों के शव, परिजन फरार

आगराः संदिग्ध हालात में पति-पत्नि की मौत, खेत में एक ही चिता में जला दिए दोनों के शव, परिजन फरार
UP City News | Aug 16, 2022 09:47 AM IST

आगरा. उत्तर प्रदेश में आगरा के थाना मलपुरा क्षेत्र में एक युवक और उसकी पत्नी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. पत्नि गर्भवती थी. दोनों के शवों को जला दिया गया. ग्रामीणों की सूचना पर जब तक पुलिस पहुंची तब तक शव जल चुके थे. मृतकों के परिजन फरार हो गए हैं. मृतका के मायका पक्ष ने पति-पत्नी की हत्या के बाद शवों को जलाने का आरोप लगाया है. पुलिस फॉरेंसिक टीम के साथ मौके पहुंचकर छानबीन में जुट गई है.

घटना थाना मलपुरा के खलौआ गांव की है. गांव निवासी 28 साल के कृष्णवीर और 25 साल की उसकी पत्नी प्रीति के शवों को घर के पीछे खेत में जला दिया गया. सोमवार की सुबह ग्रामीणों को इसकी जानकारी हुई. ग्रामीणों ने प्रीति के मायकेवालों को सूचना दी. सूचना पर मायका पक्ष के लोग गांव पहुंचे तो खेत में चिताओं की राख मिली. ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. सूचना पर एसपी ग्रामीण सत्यजीत गुप्ता और सीओ राजीव सिरोही पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए. लेकिन तब तक ससुराल वाले एक ही चिता में दोनों के शव को जलता छोड़कर फरार हो गए. मायके वालों ने ससुरालीजनों पर दोनों की हत्या का आरोप लगाया है.

सिकंदरा के गांव अटूस निवासी 25 साल की प्रीति पुत्री हरिबाबू की शादी 19 फरवरी 2019 को खलौआ मलपुरा निवासी कृष्णवीर उर्फ कृष्णा के साथ हुई थी. कृष्णवीर मजदूरी का काम करता था. दंपती के ढेढ़ साल की एक बेटी प्रियंका है. प्रीति के मायके वालों का कहना है कि वह सात महीने की गर्भवती भी थी. प्रीति को ससुराल वाले आए दिन परेशान करते थे, जिस कारण दोनों पति-पत्नी अलग रहते थे.

पुलिस ने बताया, पति ने की पत्नी की हत्या कर की खुदकुशी
वहीं पुलिस की मानें तो रात में पति-पत्नी के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था. पति ने पत्नी की हत्या कर दी. इसके बाद खुद भी कमरे में फंदे पर झूल गया. सोमवार की सुबह ससुराल वालों ने पुलिस को सूचना दिए बिना गांव के बाहर खेत में दोनों के शव एक ही चिता पर रख अंतिम संस्कार कर दिय,। जिसकी सूचना मायके पक्ष के एक रिश्तेदार ने प्रीति के परिजनों को सुबह साढ़े दस बजे दी. भाई धर्म सिंह फौजी ने बताया है कि वह रक्षाबंधन की छुट्टियों पर घर आया था. बहन रक्षा बंधन से पहले त्योहार मानने आई हुई थी. वह रक्षा बंधन मनाने के बाद उसे ससुराल छोड़कर आया था.

पुलिस के पहुंचने से पहले ही जल चुके थे शव
बड़े भाई धर्म सिंह फौजी के अनुसार सुबह साढ़े दस बजे वह गांव खलौआ पहुंचे, तब तक दोनों के शव लगभग जल चुके थे. कृष्णवीर के परिवार के लोग घर से फरार थे. पिता हरिबाबू का आरोप है कि प्रीति के ससुराल वाले उसे और कृष्णवीर को पसंद नहीं करते थे. वह आए दिन उनका उत्पीड़न करते थे. उन्होंने दंपती की हत्या करने के बाद साक्ष्य मिटाने के लिए दोनो के शवों को जला दिया.

शराब की लत में जमीन भी बेचने की बात सामने आ रही
पुलिस ने बताया है कि कृष्णवीर शराब का आदी था, जिसका पत्नी विरोध करती तो वह उसके साथ मारपीट करता था. शराब की लत में कुछ जमीन भी बेचने की बात सामने आ रही है. प्रीति के पिता की ओर से तहरीर दी गई है. मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है. साक्ष्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.