सिटी न्यूज़

आगरा: हजरत सैय्यद फतिहउददीन बल्खी साबरी के उर्स में कोरोना के खात्मे की दुआ

आगरा: हजरत सैय्यद फतिहउददीन बल्खी साबरी के उर्स में कोरोना के खात्मे की दुआ
UP City News | Apr 09, 2021 10:10 AM IST

422वाॅ पांच दिवसीय जश्न-ए-उर्स व सर्वधर्म सम्मेलन मैं गुस्ल के साथ संदल एवं मुशायरा आयोजित किया
आगरा. हजरत ख्वाजा शैख सैय्यद फतिहउददीन बल्खी अलमारूफ ताराशाह चिश्ती साबरी रह0 का 422वां पांच दिवसीय जश्न-ए-उर्स और सर्वधर्म सम्मेलन दरगाह मरकज साबरी कम्पाउण्ड, आगरा क्लब, आगरा में पूरी अकीदत के साथ मनाया गया. दरगाह के सज्जादानशीं पीर अलहाज रमजान अली शाह चिश्ती साबरी के साहबजादे हाजी इमरान अली शाह चिश्ती साबरी रमजा़नवी एवं हाजी कासिम अली शाह चिश्ती साबरी रमजा़नवी, पीरजादा बुन्दू खांन चिश्ती साबरी और साबरी परिवार के मुख्य सदस्यों ने गुलाब जल से मजार-ए-मुबारक का गुस्ल (स्नान) कराया व सन्दल और इत्र पेश करते हुए गुलपोशी की. उसके बाद दरबार-ए-तरीकत में मुल्क के अमन चैन, भाईचारा, एकता और जायरीनों की सुख समृद्धि की खास दुआ फरमाई. इस मौके अकीदतमंदों ने कोरोना के खात्मे और इस जानलेवा बीमारी से सभी को महफूज रखने की दुआ की गई.
गुस्ल व संदल पेश करने के बाद मुशायरे की महफिल में दरगाह मरकज साबरी के सज्जादानशीं के साहबजादगान ने सज्जादानशीं पीर अलहाज रमजान अली शाह चिश्ती साबरी खिराज—ए—अकीदत पेश की. उन्होंने कहा कि आज हम औलिया-ए-किराम के जश्न-ए-उर्स के मुबारिक मौके पर उपस्थित है. आज हमारे बीच में बुजुर्गाने-उज्जाम, पीरान-तरीकत- की बारगाह में सभी धर्म, वर्ग व सम्प्रदाय के मनुष्यों को प्रेम व भाई चारा का पाठ पढ़ाया जाता है. प्रेम शब्द वह तासीर रखता है जो किसी दुश्मन को अपना बनाने में सक्षम है. बुजुर्गो के आस्ताने पर आपसी भेदभाव मिटाकर लोग एक दूसरे के प्यार में जुड़ने और बंधने की कोशिश करते है जो पैगाम-ए-तरीकत ने दिया है, उस पैगाम के माध्यम से हम एक नये भारत का निर्माण कर सकते हैं और शहर व बाहर से आये हुये शायरों ने शिरकत की. इसके बाद मुशायरे का आगाज किया और मुशायरे में बहरूनी और मुकामी शायरों ने शिरकत फरमाई और मुशायरें में इस शेर के बहुत सराहा गया.
‘‘रोजे पे तुम्हारे मैं आका फरियाद सुनाने आया हूँ, जो जख्म दिये है दुनियां ने वो जख्म दिखाने आया हूं.
उर्स कमेटी व अखिल भारतीय सर्वधर्म साबरी एकता संगठन के पदाधिकारी एवं सदस्यगण सर्वश्री पीरजादा बुन्दू खाँन चिश्ती साबरी, पीरजादा अनीस साबरी, पीरजादा आरिफ साबरी, डाॅ0 कृष्णवीर सिंह कौशल, रईसउद्दीन कुरैशी, गुलाम मोहम्मद, मोहम्मद शमीम, अब्दुल सईद, परमजीत सिंह, दिनेश बघेल, सैय्यद तनवीर, हाफिज इस्लाम कादरी, पुरषोत्तम साबरी, शाहनवाज साबरी, हासिम साबरी, दीपक साबरी, तरूण साबरी, करूण साबरी, रफीक, जय सिंह साबरी, नासिर साबरी, जहिर साबरी, जीमल साबरी, चन्द्र मोहन गौड़, उमेश साबरी, नाजिम साबरी, इमरान साबरी, महेश चन्द्र साबरी, इरफान साबरी, रूखसार साबरी, चन्द्रपाल साबरी, नरेश बसंल साबरी, मनोज साबरी, राकेश साबरी, आशिष साबरी, भूपेन्द्र साबरी, विशाल साबरी, रियाजुद्दीन साबरी, सलमान साबरी, इरफान साबरी, गुरूप्यारी साबरी, माया देवी साबरी, मालती जैन, कमलेश साबरी, अफसाना बेगम, सितारा जहाँ, शबाना जहाँ, अनीासा साबरी आदि सदस्य उपस्थित रहे.