सिटी न्यूज़

फिरोजाबाद में खाना बनाते समय अचानक गैस सिलेंडर लगी आग, तेज धमाके के साथ फटा

फिरोजाबाद में खाना बनाते समय अचानक गैस सिलेंडर लगी आग, तेज धमाके के साथ फटा
UP City News | May 15, 2022 10:16 AM IST

फिरोजाबाद. फिरोजाबाद जिले में खाना बनाते समय अचानक रसोई गैस सिलेंडर में आग लग गई. जिससे सिलेंडर तेज धमाके के साथ फट गया. इस घटना में एक दर्जन से अधिक महिला और पुरूष झुलस गए. ग्रामीणों ने घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया. मौके पर पहुँची पुलिस ने घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया. थाना शिकोहाबाद क्षेत्र के असूआ शाहपुर गाँव की घटना बताई जा रही है. ग्रामीणों ने घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया.

अप्रैल में एक दिन में दिल्ली आगलगी की तीन घटना अप्रैल माह में दिल्ली में अगलगी के कई छोटे – बड़े हादसे दर्ज किए गए लेकिन 27 अप्रैल का दिन दिल्ली फायर सर्विस के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण रहा. इस दिन तीन जगह आग लगने की घटनाएं थोड़े – थोड़े अंतराल पर हुईं. इस दिन दोपहर 2.25 बजे आईटीओ के आगे शांति वन के पास डीटीसी की हरी बस में आग लग गई. फिर अमर कॉलोनी के लाजपत नगर में एक मोबाइल शॉप में आग लग गई. देखते ही देखते आग ने आस पास के रेस्टोरेंट और ढाबे को अपने चपेट में ले लिया. यहां आग से पांच दुकानें जल गईं.

इसके बाद संसद मार्ग स्थित ट्रांसपोर्ट मार्ग भवन की तीसरी मंजिल पर शाम चार बजे के करीब आग लग गई. खबर मिलते ही पुलिस के अलावा दमकल की चार गाड़ियों को मौके पर भेजा गया. आग एक कमरे के एसी में लगी थी, कुछ ही देर में उसपर काबू पा लिया गया था. इसके बाद देर शाह भलस्वा लैंडफिल साइट में आग लगने की घटना सामने आई. दमकल विभाग ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और उसे आबादी क्षेत्र की ओर बढ़ने से रोक दिया. सिलेंडर में लगी आग से कैसे बचें सिलेंडर में आग लगने या फटने से हादसा हो जाता है. ऐसे हादसों की कई खबरें लगातार सुनने को मिलती रहती हैं. हालांकि, सिलेंडर में आग लगने के हादसे को आसानी से रोका जा सकता है. कई बार आग लगने की स्थिति में लोग घबरा जाते हैं और किसी गलती की वजह से हादसा हो जाता है. जबकि सिलेंडर की आग को सेकंड में आसानी से बुझाया जा सकता है. सिलेंडर में यहां लगती है आग - सिलेंडर में आग उसी जगह लगेगी जहां से LPG गैस का रिसाव हो रहा है. यानी आग सिलेंडर की नॉब या फिर पाइप लीक होने वाली जगह पर ही लगेगी. LPG की खास बात है कि ये रिवर्स में आग नहीं पकड़ती, यानी गैस जिस डायरेक्शन में जा रही है आग भी उसी डायरेक्शन में लगेगी. साथ ही, गैस जिस हिस्से में फैलती जाएगी उसी हिस्से में आग भी लगती जाएगी.